Bihar में अनुकंपा की नौकरी की नियम में बदलाव High Court ने दिए निर्देश

Bihar Patna

अनुकंपा के नौकरी के बारे में आप जानते होंगे कि पिता अगर सरकारी नौकरी में हैं और किसी कारण बस उनकी मृत्यु हो जाती है तो उनकी जगह पर उनके बेटे को नौकरी दी जाती है इसी नियम में अप बिहार राज्य सरकार ने कुछ बदलाव किए हैं।

लापता सरकारी सेवकों के आश्रितों को बिहार सरकार बड़ी राहत देने जा रही है अब वे अपने अपने सृजन के लापता की तिथि से 12 वर्ष बाद तक अनुकंपा के आधार पर नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। सामान्य प्रशासनिक विभाग द्वारा अधिसूचना जारी करके सभी विभागों विभागों को निर्देशित किया गया है

Bihar High Court

यह निर्णय पटना हाई कोर्ट के सलाह पर लिया गया है यह मामला पटना हाई कोर्ट में एक महिला द्वारा लाया गया था। महिला के पति 2005 में लापता हो गए थे जिसके 8 साल बाद महिला ने अनुकंपा के तहत नौकरी के लिए आवेदन किया था जो आवेदन यह कह कर खारिज कर दिया गया था कि काफी देर हो चुका है । अनुकंपा पर नौकरी पाने के लिए पहले जो नियम थे वह लापता की तिथि से 5 साल के भीतर या अप्लाई करने पर नौकरी मिलती थी।

हाईकोर्ट ने यह कहते हुए इस नियम को खारिज कर दिया कि भारतीय साक्ष्य अधिनियम धारा 108 के तहत किसी लापता व्यक्ति के लापता होने की तिथि से 7 साल बाद उसे मृत माना जाता है।

High court के इस टिप्पणी के बाद सामान्य प्रशासनिक विभाग ने प्रेस जारी करते हुए नियमों में बदलाव किया जो कि मृत माने जाने के 5 साल बाद तक अप्लाई कर सकते हैं  अगर आश्रित बालिग नहीं है तो भी उसे लाभ मिलेगा बल्कि सर्च रखा गया है कि बालिग होने के बाद 1 साल के भीतर अप्लाई करने होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *