सरकार को बताना चाहिए Bihar में और Oxygen की कमी नहीं है तो फिर मरीज मर क्यों रहे हैं : High Court

Bihar Patna

Bihar में कोरोना का संकट जैसे बढ़ने लगा तो राज्य की राजधानी पटना और अन्य शहरों के अस्पताल में Oxygen  की कमी की खबरें आने लगी । लेकिन जब हाई कोर्ट द्वारा गठित कमेटी ने अपना Report Submit किया तो हाईकोर्ट ने सवाल कर दिया। इस रिपोर्ट में बताया गया कि पीएमसीएच आईजीआईएमएस और मेदांता अस्पताल में कोविड-19 है करीब 1000 से ज्यादा बेड खाली पड़े हैं। 

Bihar Hospital Oxygen

बुधवार को जब कमेटी ने रिपोर्ट को हाई कोर्ट के सामने पेश किया तो उसमें बताया गया है कि ऑक्सीजन की अनियमित आपूर्ति के कारण अस्पताल मरीजों को एडमिट नहीं कर पा रहा है। कमेटी के मेंबर डॉ उमेश भदानी डॉ रवि र्किती और डॉ रवि शंकर सिंह के द्वारा हाई कोर्ट में रिपोर्ट पेश किया गया। पीएमसीएच में 1750 वेड की सुविधा है जिसमें से 770 बेड कोविड-19 मरीजों को उपलब्ध है आईजीएमएस में 1070 वेड के विपरीत केवल 250 वेड पर ही इलाज चला रहा है है वही मेदांता अस्पताल अभी तक बंद परा है। हाई कोर्ट इस रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए कहा 24 घंटे बाद अस्पताल में ऑक्सीजन आपूर्ति की कार्य योजना पेश करें न्यायमूर्ति चक्रधारी चरण सिंह और मोहित कुमार साह के खंडपीठ ने याचिकाकर्ता शिवानी कौशिक और गौरव कुमार सिंह की तरफ से दायर की गई याचिका की सुनवाई की।

पटना हाईकोर्ट में आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा बड़े दुख की बात है कि केंद्र सरकार की ओर से 194 मेट्रिक टन ऑक्सीजन तय होने के बाद भी राज्य सरकार केवल 90 मेट्रिक तों नहीं ऑक्सीजन ले पा रहे हैं। फिर भी सरकार कह रही है कि अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी नहीं है तो फिर लोगों की मृत्यु कैसे हो रही है हाईकोर्ट ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा तय 194 मेट्रिक टन ऑक्सीजन राज्य सरकार को हर हाल में उठाना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *