क्या आप चिराग पासवान को 12 जनपद रोड से भी निकाला जा सकता है किसे मिलेगा 12 जनपद रोड का घर : New Delhi

Bihar Delhi Political

New Delhi : चिराग पासवान के लिए यह समय कुछ ठीक नहीं चल रहा है हर दिन कुछ ना कुछ बुरी खबर उनके लिए आती है आज से करीब 30 साल पहले जब वह 8 साल के थे तो जिस घर में कदम रखा था उस घर को 30 साल बाद जब उसके पिताजी नहीं है तो उसे छोड़ना पड़ सकता है मैं बात कर रहा हूं दस जनपथ स्थित आवास जो उनके पिता रामविलास पासवान जी के नाम पर आवंटित है उसी आवाज से चिराग दो बार संसद बन चुके हैं और अब उन्हें छोड़ना पड़ सकता है यह घर आओ बिहार के मंत्री आरसीपी सिंह या तो उनके चाचा  पशुपति कुमार पारस को दिया जा सकता है

12 जनपद का आवास किसे दिया जा सकता है 

लुटियंस दिल्ली में जहां 12 जनपद आवास स्थित हैं वह क्षेत्र शहरी आवास मंत्रालय के अंतर्गत आता है ओड़िया आवाज उस व्यक्ति को दिया जाता है जो केंद्रीय मंत्री होता है या फिर वरिष्ठ सांसद होता है यह मकान 30 साल पहले रामविलास पासवान जी के नाम पर आवंटित किया गया था उन्हीं के साथ चिराग पासवान में रहते थे अब जब रामविलास पासवान है क्या पिछली साल निधन हो गया चिराग अभी मंत्री भी नहीं है और उनकी वरिष्ठता भी इतनी नहीं है कि वह मकान उनको आवंटित कर दिया जाए।

कैसा था रामविलास पासवान का व्यक्तित्व

रामविलास पासवान जब यूपीए-2 की सरकार में मुख्यमंत्री भी नहीं थे तब भी उनसे मकान खाली नहीं कराया गया यहां तक कि 2009 के लोकसभा चुनाव में जब वह हार गए थे 2009 और 2010 करीब 1 साल तक ना तो सांसद भी नहीं थे फिर भी उनसे एक मकान नहीं खाली कराया गया रामविलास पासवान 1 साल तक किराया दिए थे।

अब किसे मिल सकता है यह मकान

केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस ने यह घर लेने से मना कर दिया उन्होंने यह कहा है कि इस घर से मेरे भाई बड़े भाई की यादें जुड़ी है मैं उनके घर में जाऊंगा तो मैं रह नहीं पाऊंगा 12 जनपद घर का पर्यायवाची है रामविलास पासवान तो अब संभावना है कि यह मकान केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह को आवंटित की जा सकती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *