जलवायु परिवर्तन का दिख सकता है असर Lakshadweep में जीरो पॉइंट नहीं मिली मीटर की दर से प्रति वर्ष बढ़ सकता है जलस्तर

India

Lakshadweep समूह के आसपास समुद्री जलस्तर प्रतिवर्ष 0.4 से 0.9 मिली मीटर की दर से वृद्धि हो हो सकती है। यह जानकारी हाल ही में एक शोध किया गया है जिसमें ग्रीनहाउस गैसों के अलग-अलग परिदृश्य के लिए अनुमान लगाया गया। जिसका असर वहां बने एयरपोर्ट और घरों पर पड़ सकता है। 

दुनिया भर में जिस तरह से तापमान बढ़ रहे हैं और जलवायु जलवायु में बदलाव आ रहा है जिससे समुद्र का जल स्तर बढ़ सकता है यह भविष्य के लिए जलवायु जलवायु से जुड़े खतरों में से एक है इससे सबसे ज्यादा नुकसान छोटे द्वीपों को होने वाला है  यह पहली बार है जब जलवायु मॉडल का उपयोग अरब सागर में स्थित लक्ष्यदीप समूह में बढ़ते जलस्तर के कारण बाढ़ के खतरे का अनुमान लगाने के लिए किया गया है।

यह शोध IIT खरगपुर के द्वारा किया गया है मैं आयशा जेनाथ, आथिरा कृष्णन सैकत कुमार पाल प्रसाद के भास्करण के सहित अन्य वैज्ञानिक शामिल थे। जिनको जलवायु परिवर्तन कार्यक्रम के तहत भारत के डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी का सहयोग प्राप्त था। यह शोध जनरल रीजनल स्टडीज इन मरीन साइंस में प्रकाशित हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *